TOUCH HERE !
👇🏻👇👇🏻

[Your Name]

Wishing You

Guru Ravidas Jayanti

Guru Ravidas Jayanti
Guru Ravidas Jayanti

Guru Ravidas Jayanti

संत कुलभूषण कवि संत शिरोमणि रविदास उन महान सन्तों में अग्रणी थे जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान किया। इनकी रचनाओं की विशेषता लोक-वाणी का अद्भुत प्रयोग रही है जिससे जनमानस पर इनका अमिट प्रभाव पड़ता है। मधुर एवं सहज संत शिरोमणि रैदास की वाणी ज्ञानाश्रयी होते हुए भी ज्ञानाश्रयी एवं प्रेमाश्रयी शाखाओं के मध्य सेतु की तरह है।
प्राचीनकाल से ही भारत में विभिन्न धर्मों तथा मतों के अनुयायी निवास करते रहे हैं। इन सबमें मेल-जोल और भाईचारा बढ़ाने के लिए सन्तों ने समय-समय पर महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऐसे सन्तों में शिरोमणि रैदास का नाम अग्रगण्य है। वे सन्त कबीर के गुरूभाई थे क्योंकि उनके भी गुरु स्वामी रामानन्द थे।
गुरू रविदास जी का जन्म काशी में चर्मकार (चमार) कुल में हुआ था। उनके पिता का नाम संतो़ख दास (रग्घु) और माता का नाम कलसा देवी बताया जाता है। रैदास ने साधु-सन्तों की संगति से पर्याप्त व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त किया था। जूते बनाने का काम उनका पैतृक व्यवसाय था और उन्होंने इसे सहर्ष अपनाया। वे अपना काम परिश्रम और लगन से पूरा करते थे
उनकी समयानुपालन की प्रवृति तथा मधुर व्यवहार के कारण उनके सम्पर्क में आने वाले लोग भी बहुत प्रसन्न रहते थे।
दयालु तथा परोपकारी बहुत थे संत रविदास और स्वाभाव बन गया था उनका दूसरों की सहायता करने का । साधु-सन्तों को बिना मूल्य लिए जूते भेंट कर देते थे । उनके स्वभाव के कारण उनके माता-पिता उनसे अप्रसन्न रहते थे। रविदास तथा उनकी पत्नी को घर से अलग कर दिया था। पड़ोस में झोंपड़ी बनाकर रैदास जी वहीँ अपना व्यवसाय करते थे और शेष समय ईश्वर-भजन तथा साधु-सन्तों के सत्संग में व्यतीत करते थे।
उनके जीवन की छोटी-छोटी घटनाओं से समय तथा वचन के पालन सम्बन्धी उनके गुणों का पता चलता है। एक बार एक पर्व के अवसर पर पड़ोस के लोग गंगा-स्नान के लिए जा रहे थे। रैदास के शिष्यों में से एक ने उनसे भी चलने का आग्रह किया तो वे बोले, गंगा-स्नान के लिए मैं अवश्य चलता किन्तु एक व्यक्ति को जूते बनाकर आज ही देने का मैंने वचन दे रखा है। वचन भंग होगा यदि मैं उसे आज जूते नहीं दे सका। पुण्य कैसे प्राप्त होगा अगर गंगा स्नान के लिए जाने पर मन यहाँ लगा रहेगा ? काम करना वही उचित है जो मन करने के लिए तैयार हो । मन सही है तो इसे कठौते के जल में ही गंगास्नान का पुण्य प्राप्त हो सकता है। कहा जाता है कि इस प्रकार के व्यवहार के बाद से ही कहावत प्रचलित हो गयी कि - मन चंगा तो कठौती में गंगा।
रैदास ने सबको प्रेमपूर्वक मिलजुल कर रहने का उपदेश्य दिया । ईश्वर-भगति अथवा धर्म पर विवाद तथा उंच नीच की भावना को निरर्थक तथा सारहीन बताया ।
वे स्वयं मधुर तथा भक्तिपूर्ण भजनों की रचना करते थे और उन्हें भाव-विभोर होकर सुनाते थे। उनका विश्वास था कि राम, कृष्ण, करीम, राघव आदि सब एक ही परमेश्वर के विविध नाम हैं। पुराण, कुरान, वेद आदि ग्रन्थों में गुणगान किया गया है कि परमेश्वर एक है।

कृस्न, करीम, राम, हरि, राघव, जब लग एक न पेखा। वेद कतेब कुरान, पुरानन, सहज एक नहिं देखा।।

उनका विश्वास था कि ईश्वर की भक्ति के लिए सदाचार, परहित-भावना तथा सद्व्यवहार का पालन करना अत्यावश्यक है। अभिमान त्याग कर दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार करने और विनम्रता तथा शिष्टता की वृद्धि पर बहुत बल दिया। उन्होंने कहा है-

कह रैदास तेरी भगति दूरि है, भाग बड़े सो पावै। तजि अभिमान मेटि आपा पर, पिपिलक हवै चुनि खावै।

उनके विचारों का आशय यही है कि ईश्वर की भक्ति बड़े भाग्य से प्राप्त होती है। अभिमान शून्य रहकर काम करने वाला व्यक्ति जीवन में सफल रहता है जैसे कि विशालकाय हाथी शक्कर के कणों को चुनने में असमर्थ रहता है जबकि लघु शरीर की पिपीलिका (चींटी) इन कणों को सरलतापूर्वक चुन लेती है। इसी प्रकार अभिमान तथा बड़प्पन का भाव त्याग कर विनम्रतापूर्वक आचरण करने वाला मनुष्य ही ईश्वर का भक्त हो सकता है।
रैदास की वाणी भक्ति की सच्ची भावना, समाज के व्यापक हित की कामना तथा मानवता प्रेम का ज्ञान था। इसीलिए गहरा प्रभाव सबके मन पर पड़ता था। लोगों को रैदास के उपदेशो तथा भजनों से उच्च शिक्षा मिलती थी और उनकी शंकाओ का सन्तोषजनक समाधान हो जाता था और लोग स्वत: उनके अनुयायी बन जाते थे।
उनकी वाणी का इतना व्यापक प्रभाव पड़ा कि समाज के सभी वर्गों के लोग उनके प्रति श्रद्धालु बन गए । रैदास की भगति भावना से प्रभावित हो कर मीरबाई उनकी शिष्या बन गयी थी ।

वर्णाश्रम अभिमान तजि, पद रज बंदहिजासु की। सन्देह-ग्रन्थि खण्डन-निपन, बानि विमुल रैदास की।।

आज भी सन्त रैदास के उपदेश समाज के कल्याण तथा उत्थान के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने अपने आचरण तथा व्यवहार से यह प्रमाणित कर दिया है कि मनुष्य अपने जन्म तथा व्यवसाय के आधार पर महान नहीं होता है। विचारों की श्रेष्ठता, समाज के हित की भावना से प्रेरित कार्य तथा सद्व्यवहार जैसे गुण ही मनुष्य को महान बनाने में सहायक होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण सन्त रैदास को अपने समय के समाज में अत्यधिक सम्मान मिला और इसी कारण आज भी लोग इन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हैं।

Source: WikiPedia


गुरु रविदास जी की जयंती पर हम अपनी श्रद्धा,
महान सतगुरु रविदास जी के अर्पण करते है ।
जिन्होंने समानता और भाईचारे का सन्देश दिआ.
श्री गुरु रविदास महाराज जी के,
प्रकाश पर्व की सब संगत को शुभ कामनाएँ

On the occasion of Guru Ravidas Jayanti,
let’s pay our humble tribute to
Legend GURU RAVIDAS Ji,
who preached brotherhood & equality
Happy Guru Ravidass Jayanti to all.

From
⭐️ [Your Name] ⭐️



© WISH.PICTURES | Website By ADLARE MEDIA